1. Home
  2. Sad Shayari
  3. Sad Shayari Sheeshe Ka Muqaddar

Sad Shayari, Sheeshe Ka Muqaddar

Serious Two Line Sad Shayari in Hindi

By | 13 May 2016 |
Sad Shayari, Sheeshe Ka Muqaddar
Ads by Google

Zamana Khada Hai Haatho Mein Patthar Lekar,
Kahan Tak Bhaagu Sheeshe Ka Muqaddar Lekar.
ज़माना खड़ा है हाथों में पत्थर लेकर,
कहाँ तक भागूं शीशे का मुक़द्दर लेकर।

Mohabbat Ke Kafile Ko Kuchh Der Toh Rok Lo,
Aate Hain Hum Bhi Paanv Se Kaante Nikal Kar.
मोहब्बत के काफिले को कुछ देर तो रोक लो,
आते है हम भी पाँव से कांटे निकाल कर।

Ab Kya Kahoon Ke Umr Gujaari Hai Kis Tarah,
Ye Bhi Koi Sawaal Hai Kuchh Aur Baat Kar.
अब क्या कहूँ कि उम्र गुजारी है किस तरह,
ये भी कोई सवाल है कुछ और बात कर।

Mat Puchh Sheeshe Se Uske Tootne Ki Wajah,
Usne Bhi Kisi Patthar Ko Apna Samjha Hoga.
मत पूछ शीशे से उसके टूटने की वजह,
उसने भी किसी पत्थर को अपना समझा होगा।

Ads by Google

Chale Jaenge Tujhe Tere Haal Pe Chhod Kar,
Kadar Kya Hoti Hai Ye Tujhe Waqt Sikha Dega.
चले जायेंगे तुझे तेरे हाल पे छोड़ कर,
कदर क्या होती है तुझे वक़्त सिखा देगा।

Kab Doge Rihayi Mujhe Inn Yaadon Ki Qaid Se,
Aye Ishq Apne Zulm Dekh Aur Meri Umr Dekh.
कब दोगे रिहाई मुझे इन यादों की कैद से,
ऐ इश्क अपने जुल्म देख मेरी उम्र देख।

Hanste Huye Honthon Ne Bharam Rakha Humara,
Wo Dekhne Aaya Tha Kis Haal Mein Hum Hain.
हँसते हुए होठों ने भरम रखा हमारा,
वो देखने आया था किस हाल में हम है।

Koi Mila Hi Nahi Jis Ko Saunpte Mohsin,
Hum Apne Khwab Ki Khushbu, Khayal Ka Mausam.
कोई मिला ही नहीं जिस को सौंपते मोहसिन,
हम अपने ख्वाब की खुशबू, ख्याल का मौसम।

Ads by Google

Sad Shayari, Tere Milne Ki Fariyad

Sad Shayari, Bhula Dete Tumhein