1. Home
  2. Sad Shayari
  3. Sad Shayari Bichhada Iss Kadar Ke

Sad Shayari, Bichhada Iss Kadar Ke

Shayari for Very Sad Mood

By | 17 Dec 2015 |
Sad Shayari, Bichhada Iss Kadar Ke
Ads by Google

Bichhada Iss Kadar Ki Rut Hi Badal Gayi,
Ek Shakhs Sare Shahar Ko Veeran Kar Gaya!
बिछड़ा इस कदर से के रुत ही बदल गयी,
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर कर गया।

Kuchh Iss Adaa Se Tode Hain Talluq Usne,
Ek Mudaat Se Dhoondh Raha Hun Kasoor Apna.
कुछ इस अदा से तोड़े है ताल्लुक उसने,
एक मुद्दत से ढूंढ़ रहा हूँ कसूर अपना।

Hum Se Ek Rutha Hua Shakhs Bhi Na Manaa,
Log To Ruthi Huyi Taqdeer Mana Lete Hain.
हमसे एक रूठा हुआ शख्स भी न मना,
लोग तो रूठी हुई तकदीर मना लेते हैं।

Ek Sawaal Chhipa Hai Dil Ke Kisi Kone Mein,
Ke Kya Kami Rah Gayi Thi Tera Hone Mein.
एक सवाल छिपा है दिल के किसी कोने में,
कि क्या कमी रह गई थी तेरा होने में।

Ads by Google

Khuda Ki Itni Badi Kaynaat Mein Maine,
Bas Ek Shakhs Ko Maanga Mujhe Wahi Na Mila.
खुदा की इतनी बड़ी कायनात में मैंने,
बस एक शख्स को मांगा मुझे वही ना मिला।

Unse Iss Kamaal Se Kheli Ishq Ki Baazi,
Main Apni Fatah Samjhta Raha Maat Hone Tak.
उसने इस कमाल से खेली इश्क़ की बाज़ी,
मैं अपनी फतह समझता रहा मात होने तक।

Ek Aisi Bhi Ghadi Ishq Mein Aayi Thi Hum Tak,
Khaak Ko Haath Lagaate Toh Siatara Karte.
एक ऐसी भी घड़ी इश्क में आयी थी हम तक,
खाक को हाथ लगाते तो सितारा करते।

Roj Kehta Hun Na Jaaunga Kabhi Ghar Uske,
Roj UsKe Kuche Mein Koi Kaam Nikal Aata Hai.
रोज कहता हूँ न जाऊँगा कभी घर उसके,
रोज उस के कूचे में कोई काम निकल आता है।

Ads by Google

Sad Shayari, Mohabbat Ki Takleef

Sad Shayari, Tum Na Mil Sake