1. Home
  2. Sad Shayari
  3. Sad Shayari Yaar Ne Inayat Nahi Ki

Sad Shayari, Yaar Ne Inayat Nahi Ki

True Sad Shayaris in Two Lines

By | 08 Jun 2016 |
Sad Shayari, Yaar Ne Inayat Nahi Ki
Ads by Google

Na Koi ilzaam, Na Koi Tanz, Na Koi Ruswai,
Din Bahut Ho Gaye Yaar Ne Koi Inayat Nahi Ki.
न कोई इल्जाम, न कोई तंज, न कोई रुसवाई,
दिन बहुत हो गए यार ने कोई इनायत नहीं की।

Har Taraf Chha Gaye Paigam-e-Mohabbat Ban Kar,
Mujhse Achchi Rahi Kismat Mere Afsaane Ki.
हर तरफ छा गए पैगाम-ऐ-मोहब्बत बनकर,
मुझसे अच्छी रही किस्मत मेरे अफ़साने की।

Woh Kaale Kos Sahar Ki Khushi Mein Kaate Hain,
Sahar Ka Rang Magar Raat Se Bhi BadTar Tha.
वह काले कोस सहर की खुशी में काटे हैं,
सहर का रंग मगर रात से भी बदतर था।

Ads by Google

Umr Bhar Likhte Rahe Fir Bhi Warq Sada Raha,
Jaane Kya Lafz The Jo Humse Na Tahreer Hue.
उम्र भर लिखते रहे फिर भी वरक सादा रहा,
जाने क्या लफ़्ज़ थे जो हम से न तहरीर हुए।

Ye Mukarne Ka Andaaz Mujhe Bhi Sikha Do Koi,
Vaade Nibha-Nibha Ke Ab Thak Gaya Hoon Main.
ये मुकरने का अंदाज़ मुझे भी सिखा दो कोई,
वादे निभा-निभा के अब थक गया हूँ मैं।

Na Tum Bure Sanam Na Hum Bure Sanam,
Kuchh Kismat Buri Hai Aur Kuchh Waqt Bura Hai.
ना तुम बुरे सनम, ना हम बुरे सनम,
कुछ किस्मत बुरी है और कुछ वक्त बुरा है।

Ads by Google

Sad Shayari, Yeh Udasiyan Kaisi

Sad Shayari, Mohabbat Mein Zeher