1. Home
  2. Yaad Shayari
  3. Yaad Shayari Yaad Aaye Toh Be-Hisaab

Yaad Shayari, Yaad Aaye Toh Be-Hisaab

Couplets about Genuine Expressions of Remembrance

By | 09 Jun 2016 |
Yaad Shayari, Yaad Aaye Toh Be-Hisaab
Ads by Google

Kar Raha Tha Gham-E-Jahan Ka Hisaab,
Aaj Tum Yaad Aaye Toh Be-Hisaab Aaye.
कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाब,
आज तुम याद आये तो बेहिसाब आये।

Kyun Karte Ho Mere Dil Par Itna Sitam,
Yaad Karte Nahi Toh Yaad Aate Kyun Ho?
क्यूँ करते हो मेरे दिल पर इतना सितम?
याद करते नहीं, तो याद आते ही क्यूँ हो।

Qaza Samajh Kar Raaton Ko Jaag Lete Hain,
Zikr Jis Din Tumhara Chhoot Jata Hai.
क़ज़ा समझकर हम रातों को जाग लेते हैं,
ज़िक्र जिस दिन तुम्हारा छूट जाता है।

Ads by Google

Aa Gayi Teri Yaad Dard Ka Lashkar Lekar,
Ab Kahan Jayein Hum Dil-e-Muztar Lekar.
आ गयी तेरी याद दर्द का लश्कर लेकर,
अब कहाँ जायें हम दिल-ए-मुजतर लेकर।

Hasrat Nahi Armaan Nahi Aas Nahi Hai,
Yaadon Ke Siwa Kuchh Bhi Mere Paas Nahi Hai.
हसरत नहीं, अरमान नहीं, आस नहीं है,
यादों के सिवा कुछ भी मेरे पास नहीं है।

Jaate-Jaate Aap Itna Kaam Kar Dena Mera,
Yaad Ka Saara Sar-o-Saaman Jalate Jaiye.
जाते-जाते आप इतना काम कर देना मेरा,
याद का सारा सर-ओ-सामाँ जलाते जाइए।

Ads by Google

Yaad Shayari, Woh Silsile Woh Shauk

Yaad Shayari, Khoyi Huyi Ek Yaad