1. Home
  2. Gam Bhari Shayari
  3. Gam Shayari Kaho Kis Baat Ka Gam Hai

Gam Shayari, Kaho Kis Baat Ka Gam Hai

True Gham Shayari Expressing Sadness of a Lover

By | 20 Jun 2016 |
Gam Shayari, Kaho Kis Baat Ka Gam Hai
Ads by Google

Agar Woh Puchh Lein Humse Kaho Kis Baat Ka Gam Hai,
Toh Phir Kis Baat Ka Gam Hai Agar Woh Puchh Lein Humse.
अगर वो पूछ लें हमसे कहो किस बात का ग़म है,
तो फिर किस बात का ग़म है अगर वो पूछ लें हमसे।

Jhuthh Kehte Hain Log Ki Mohabbat Sab Cheen Leti Hai,
Maine Toh Mohabbat Karke Gam Ka Khajana Paa Liya.
झूठ कहते हैं लोग कि मोहब्बत सब छीन लेती है,
मैंने तो मोहब्बत करके ग़म का खजाना पा लिया।

Ads by Google

Shikayat Kya Karu Dono Taraf Gham Ka Fasana Hai,
Mere Aage Mohobbat Hai Tere Aage Zamana Hai.
शिकायत क्या करूँ दोनों तरफ ग़म का फसाना है,
मेरे आगे मोहब्बत है तेरे आगे ज़माना है।

Badal Jaate Hain Zindagi Ke Mayane Uss Waqt,
Jab Koi Tumhara, Tumhare Samne, Tumhara Nahi Hota.
बदल जाते है ज़िंदगी के मायने उस वक़्त,
जब कोई तुम्हारा, तुम्हारे सामने, तुम्हारा नहीं होता।

Dekhkar Tumko Aksar Humein Yeh Ehsaas Hota Hai,
Kabhi Kabhi Gam Dene Wala Bhi Kitna Khaas Hota Hai.
देखकर तुमको अक्सर हमें ये एहसास होता है,
कभी कभी ग़म देने वाला भी कितना ख़ास होता है।

Ads by Google

Gam Shayari, Apne Gam Na Chhupata

Gam Shayari, Qasam Apni Bhulai Tumne